रयान स्कूल मर्डर केस – पोस्ट मॉर्टम रिपोर्ट में दुराचार नहीं होने की बात, गला रेतने से हुई मौत

Spread the love for our web

1

रयान इंटरनेशनल स्कूल में बच्चे की हत्या के बाद उसकी पोस्ट मॉर्टम रिपोर्ट आ गई है. रिपोर्ट के अनुसार बच्चे के साथ किसी प्रकार का कोई यौनाचार नहीं होने की बात सामने आई है. साथ ही रिपोर्ट में यह कहा गया है कि बच्चे के गली की एक नस काट दी गई जिससे वह बोल या चीख नहीं पाया. बताया जा रहा है कि इस नस की वजह से मनुष्य बोलते हैं. बता दें कि गुरुग्राम के रयान इंटरनेशनल स्कूल में 7 साल के बच्चे की बेरहमी से की गई हत्या के मामले में स्कूल मैनेजमेंट के दो सीनियर अधिकारियों को गिरफ्तार कर लिया गया है. स्कूल के रीजनल हेड और एचआर हेड को गिरफ्तार किया गया है. दोनों को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उन्हें दो दिनों की पुलिस रिमांड में भेज दिया गया. कुछ अन्य टीचरों से भी पूछताछ की जा रही है.

रयान इंटरनेशनल स्कूल मैनेजमेंट ने अभिभावकों को सूचित किया कि जूनियर और नर्सरी सेक्शन अगले आदेश तक बंद रहेंगे. हालांकि छठी से 12वीं तक के क्लास बुधवार को परीक्षा के लिए खुलेंगे. हत्या की जांच कर रही एसआईटी को स्कूल में कई खामियों का पता चला है. जांच टीम की रिपोर्ट के मुताबिक स्कूल में एक-दो नहीं, बल्कि कई स्तर पर लापरवाही बरती जा रही थी. एसआईटी ने अपनी जांच में पाया कि स्कूल में सीसीटीवी लगाने में गड़बड़ी की गई थी. साथ ही स्कूल के अंदर ड्राइवर और कंडक्टरों के लिए अलग से कोई टॉयलेट की व्यवस्था नहीं थी. स्कूल की बाउंड्री भी टूटी हुई थी और टॉयलेट बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं थे.

यह भी पढ़ें : रयान स्कूल हत्याकांड: एसआईटी ने अदालत से कहा – सबूत नष्ट करने का प्रयास किया गया

एसआईटी के सदस्यों ने यह भी बताया कि स्कूल के कर्मचारियों की सही तरीके से पुलिस वेरिफिकेशन नहीं की जाती है. रविवार को नाराज लोगों ने स्कूल के पास के शराब के एक ठेके को आग के हवाले कर दिया. इसके बाद पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज किया. कुछ मीडियाकर्मियों को भी चोटें आई हैं. अभिभावक लगातार स्कूल प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं.

मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने कहा है कि इस मामले में कोई नरमी नहीं बरती जाएगी और स्कूल प्रबंधन को जबावदेह ठहराया जाएगा. वहीं हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा ने रविवार को कहा कि इस मामले में आरोपपत्र सात दिन में तैयार होगा. बहरहाल, अगर बच्चे के माता-पिता सीबीआई या किसी दूसरी एजेंसी से जांच की मांग करते हैं तो सरकार उनकी मांग स्वीकार कर लेगी.

Your email address will not be published. Required fields are marked *