पद्मावती की रिलीज कोई नहीं रोक सकता, इस किरदार पर फख्र: दीपिका पादुकोण

Uncategorized0
Spread the love for our web

ttttt

नई दिल्ली. फिल्म पद्मावती पर चल रहे विवाद पर दीपिका पादुकोण ने कहा कि इसे रिलीज होने से कोई रोक नहीं सकता है। उन्होंने कहा- “हम सिर्फ सेंसर बोर्ड के लिए जवाबदेह हैं। इसका विरोध डराने वाला है। मुझे विश्वास है कि यह एक बड़ी लड़ाई जीतेगी। बता दें कि राजपूत कम्युनिटी और करणी सेना ने फिल्म में इतिहास से छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। पिछले दिनों राजपूत कम्युनिटी, विश्व हिंदू परिषद, बजरंग दल और करणी सेना ने गुजरात, राजस्थान और महाराष्ट्र में प्रदर्शन किए। इनकी मांग है कि रिलीज होने से पहले उन्हें इसे दिखाया जाना चाहिए। बता दें कि दीपिका ने इसमें रानी पद्मावती का रोल निभाया है। यह फिल्म एक दिसंबर को रिलीज होगी।
दीपिका पादुकोण ने कहा- पद्मावती का रोल निभाना फख्र की बात
– दीपिका पादुकोण ने कहा- “मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं एक दिन संजय लीला भंसाली की फिल्मों में हीरोइन बनूंगी। ये हर एक्ट्रेस के लिए नसीब की बात है। मैं इसका जश्न मनाती हूं। मैं पद्मावती के लिए रिलीज का इंतजार कर रही हूं।”
– “मुझे पूरा भरोसा है कि फिल्म विवादों से निकलकर सिनेमाघरों में दिखाई जाएगी और इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री के लिए एक बड़ी लड़ाई जीतेगी। एक महिला के रूप में मुझे इस फिल्म का हिस्सा होने और कहानी को बताने पर फख्र है।”
– बता दें कि इससे पहले दीपिका ने संजय लीला भंसाली की मूवी रामलीला और बाजीराव मस्तानी में काम किया था।
और क्या बोलीं दीपिका
– दीपिका पादुकोण ने कहा- “फिल्म का विरोध बहुत डराने वाला है। यह सच में डरावना है। इससे हमें क्या मिला? एक देश के रूप में हम कहां पहुंच गए हैं? हम आगे बढ़ने के बदले पीछे जा रहे हैं।”
– फिल्म इंडस्ट्री से मिल रहे सपोर्ट पर दीपिका ने कहा- “यह लड़ाई सिर्फ ‘पद्मावती’ को लेकर नहीं है, बल्कि हमारी इंडस्ट्री एक बड़ी लड़ाई लड़ रही है।”
फिल्म पद्मावती को लेकर क्या आपत्ति है?
– राजस्थान में करणी सेना, बीजेपी लीडर्स और हिंदूवादी संगठनों ने इतिहास से छेड़छाड़ का आरोप लगाया है। राजपूत करणी सेना का मानना है कि ​इस फिल्म में पद्मिनी और खिलजी के बीच इंटीमेट सीन फिल्माए जाने से उनकी भावनाओं को ठेस पहुंची है। लिहाजा, फिल्म को रिलीज से पहले पार्टी के राजपूत प्रतिनिधियों को दिखाया जाना चाहिए। ऐसा करने से रिलीज के वक्त फिल्म के लिए सहूलियत रहेगी और तनाव के हालात से बचा जा सकेगा।
– अब राजस्थान के राजघराने भी विरोध में उतर आए हैं।
कहां से शुरू हुआ विवाद?
– राजस्थान में फिल्म शूटिंग के दौरान इसके विरोध की शुरुआत हुई थी। शूटिंग के वक्त राजपूत करणी सेना ने कई जगह प्रदर्शन किया था और पुतले फूंके थे। जयपुर में शूटिंग के दौरान कुछ लोगों ने संजय लीला भंसाली से बदसलूकी की थी, जिसके बाद कोल्हापुर में फिल्म का सेट लगाया तो यहां भी इसे जला दिया गया।
– इसके बाद मूवी का विरोध देशभर में बढ़ता गया।
डायरेक्टर का स्टैंड क्या है?
– पद्मावती का विरोध होने के बाद डायरेक्टर संजय लीला भंसाली ने कहा था कि इस फिल्म में ऐसा कुछ नहीं है, जिसे लेकर विरोध किया जा रहा है। इसके बाद फिल्म में पद्मावती का किरदार निभा रही दीपिका पादुकोण ने इन्फॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग मिनिस्टर स्मृति ईरानी को टैग करते हुए ट्वीट किया था कि इस तरह की घटनाओं पर एक्शन लिया जाना चाहिए।
कई राजघराने भी विरोध में
– राजस्थान के कई राजपूत घराने भी इस फिल्म के विरोध में आ गए हैं। जयपुर राजघराने की राजकुमारी दीया कुमारी ने पिछले दिनों इस फिल्म के खिलाफ सिग्नेचर कैम्पेन शुरू किया। इस दौरान दीया ने कहा कि इस कैम्पेन में ज्यादा से ज्यादा लोगों और ऑर्गनाइजेशन को जोड़ने के लिए इसे डिविजन लेवल पर भी ऑर्गनाइज किया जाएगा।
– उन्होंने संजय लीला भंसाली से कहा कि वे रिलीज करने से पहले इतिहासकारों के फोरम के सामने इसकी स्क्रिनिंग करें।

Leave a Comment